Class 11 Hindi (MIL) प्रथम भाग | आरोह (गद्य खंड) | विषय – 9. भारत-माता

Class 11 Hindi (MIL) प्रथम भाग | आरोह (गद्य खंड) | विषय – 9. भारत-माता HS प्रथम वर्ष के लिए महत्वपूर्ण प्रश्न हिंदी प्रश्न उत्तर आपके लिए नवीनतम NCERT/AHSEC संकेतकों के अनुसार नवीनतम प्रश्न और समाधान लाता है। छात्र इन आवश्यक अध्याय प्रश्नों को सक्रिय करके प्रत्येक अध्याय के संबंध में अपने सभी संदेहों को दूर करेंगे और हमारे विशेषज्ञों द्वारा प्रदान की गई विस्तृत व्याख्याओं को विस्तृत करेंगे ताकि आपको उच्च सहायता मिल सके। ये प्रश्न छात्रों को समय की कमी के कारण परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी करने में मदद कर सकते हैं। Class 11 Hindi (MIL) प्रथम भाग | आरोह (गद्य खंड) | विषय – 9. भारत-माता

HS First Year Hindi (MIL) प्रथम भाग | आरोह (गद्य खंड) | विषय – 9. भारत-माता

प्रथम भाग :: आरोह (गद्य खंड)

सारांश :

नेहरू जी देश के कोने-कोने में आयोजित जलसों में जाकर वे आम लोगों को बताते थे कि अनेक हिस्सों में बँटा होने पर भी हिन्दुस्तान एक हैं। शहरों की अपेक्षा किसानों के समक्ष आजादी के लिए की जाने वाली कोशिशों के बारे में बताते। वे बताते की स्वराज सभी के फ़ायदे के लिए हो सकता है।

लेखक उन किसानों के समक्ष उत्तर-पश्चिम में खैबर के दरें से लेकर घुर दक्षिण में कन्याकुमारी तक की अपनी यात्रा के हाल को बताते। किसानों की समस्याएँ जिनमें कर्जदारों, पूँजीपतियों के शिकंजे, जमींदार, महाजन आदि से किस प्रकार सभी को छुटकारा पाना है, उस पर चर्चा करते। लेखक अपने भाषणों में कभी चीन स्पेन, मध्य यूरोप आदि देशों में होने वाले कशमकशें का जिक्र करते तो कभी सोवियत यूनियन में होने वाली तब्दीलियों का हाल बताते। तो कभी किस प्रकार अमेरिका ने तरक्की की.उसको चर्चा करते। ये सभी बातें वे ध्यान से सुनते और समझते थे।

जब लेखक किसी जलसे में जाते तो कभी उनका स्वागत ‘भारत माता की जय’ नारे से किया जाता। इस पर वे लोगों से इस नारे का मतलब पूछते। एक बार इस सवाल का उत्तर देते हुए एक किसान बताता है कि भारत माता से उसका मतलब धरती से हैं। तब नेहरु जी बताते है कि हिन्दुस्तान वह सब कुछ हैं, जिसे उन्होंने समझ रखा है, लेकिन वह इससे भी बहुत ज्यादा हैं। भारत माता दरअसल यहीं करोड़ों लोग हैं, जो भारत में फैले हुए हैं, और भारत माता की जय अर्थात इन लोगों का जय। लेखक उनसे यह भी कहते कि वे भारत माता के ही अंश है, और इस तरह वे भी भारत माता ही हैं। और लेखक के इन विचारों को सुनकर उनकी आँखों में चमक आ जाती।

प्रश्नोत्तर

1. भारत की चर्चा नेहरु जी कब और किससे करते थे ? 

उत्तर: भारत की चर्चा नेहरु जी स्वाधीनता प्राप्ति पूर्व उन किसानों से करते जो देश के गाँवों में बसे थे।

2. नहरु जी भारत के सभी किसानों से कौन सा प्रश्न बार-बार करते थे ? (2015) 

उत्तर: नेहरू जी भारत के सभी किसानों सेयही प्रश्न बार-बार करते हैं कि भारत माता कौन हैं, यहा भारत माता से उनका मतलब क्या है।

3.दुनिया के बारे में किसानों को बताना नेहरू जी के लिए क्यों आसान था ? (2016)

 उत्तर : नेहरू जी के लिए इसलिए आसान था क्योंकि पुराने महाकाव्यों तथा पुराणों में वर्णित कथा-कहानियों ने उन्हें देश की कल्पना करा दी थी। साथ ही नेहरु को ऐसे लोग मिल जाते थे जो बड़े-बड़े तीथो की यात्रा कर रखी थी। सन् तीस के बाद जो आर्थिक मंदी पैदा हुई, उसकी वजह से दुनिया के बारे किसानों को बताना आसान था।

4. किसान सामान्यतः भारत माता का क्या अर्थ लेते थे ?

 उत्तर :किसान सामान्यतः भारत माता का अर्थ धरती से लेते थे।

5. भारत माता के प्रति नेहरू जी की क्या अवधारणा थी ? 

उत्तर : भारत माता के प्रति नेहरु जी अवधारणा विस्तृत हैं। उनके अनुसार हिन्दुस्तान वह सब कुछ हैं, जिसे हम जानते हैं, बल्कि इससे भी बढ़कर हैं। हिन्दुस्तान की नदी, पहाड़, जंगल, खेत सभी हमें प्रिय हैं। लेकिन जिनकी गिनती होती है, वह हैं, हिन्दुस्तान के लोग जो इस देश में फैले हुए है। और भारत माता का अर्थ यहीं करोड़ों लोग से हैं, जो देश में फैले हुए हैं।

आरोहो : गद्य खंड

Sl. No.LessonsLinks
1.नमक का दारोगा Click Here
2.मियाँ नसीरुद्दीन Click Here
3.अपू के साथ ढाई साल Click Here
4.विदाई-संभाषण Click Here
5.गलता लोहा Click Here
6.स्पीति में बारिस Click Here
7.रजनी Click Here
8.जामुन का पेड़ Click Here
9.भारत माता Click Here
10.आत्मा का ताप Click Here

आरोहो : काव्य खंड

Sl. No.LessonsLinks
1.हम तौ एक एक करि जाना।
संतो देखत जग बौराना।
Click Here
2.(क) मेरे तो गिरधर गोपाल, दूसरो न कोई
(ख) पग घुंघरू बांधि मीरा नाची,
Click Here
3.पथिक Click Here
4.वे आँखें Click Here
5.घर की याद Click Here
6.चंपा काले काले अच्छर नहीं चीन्हती Click Here
7.गजल Click Here
8.1. हे भूख मत मचल
2. हे मेरे जूही के फूल जैसे ईश्वर
Click Here
9.सबसे खतरनाक Click Here
10.आओ मिलकर बचाएँ Click Here

वितान

1.भारतीय गायिकाओं में बेजोड़ – लता मंगेशकर Click Here
2.राजस्थान की रजत बूंदें Click Here
3.आलो-आंधारि  Click Here

6. आज़ादी से पूर्व किसानों को किन समस्याओं का सामना करना पड़ता था ? 

उत्तर : आजादी से पूर्व किसानों की बहुत ही दयनीय हालत थी। हरतरफ से उनका शोषण किया जा रहा था। किसान गरीब होने के कारण कर्ज से लदे हुए थे। उस पर कड़े लगान और सूद ने उनकी कमर तोड़ दी थी। दूसरी तरफ समाज में जमींदार, महाजन तथा पूँजीपतियों के शिकंजे में बुरी तरह से फँसे हुए थे। इसके अतिरिक्त पुलिस के तरह-तरह के जुल्म भी उन किसानों को सहने पड़ते थे।

लघु प्रश्नोत्तर

1.भारत माता के लेखक कौन हैं ?

उत्तर: भारत माता के लेखक है जवाहरलाल नेहरु।

2.प्रस्तुत पाठ को कहाँ से ली गई है ?

उत्तर: प्रस्तुत पाठ को हिन्दुस्तान की कहानी से ली गई हैं।

3.’भारत’ शब्द किस भाषा का शब्द हैं?

उत्तर : ‘भारत’ एक संस्कृत शब्द हैं।

4.भारत की चर्चा नेहरू ने किससे की है?

उत्तर: भारत की चर्चा नेहरू ने किसानों से की है।

5. नेहरु के अनुसार ‘भारत माता की जय ‘ का तात्पर्य क्या हैं ? 

उत्तर: नेहरु के अनुसार भारत माता की जय अर्थात यहाँ के करोड़ों-करोड़ लोगों की जय।

6. किसानों के किन समस्याओं का उल्लेख किया गया है ? 

उत्तर: गरीबी, पूँजीपतियों के शिकंजे, पुलिस द्वारा होने वाले जुल्म वाले जुल्म आदि समस्याओं का उल्लेख किया गया है।

व्याख्या

1.मैं उनसे कहता कि तुम इस भारत माता के अंश हो, एक तरह से तुम ही भारत माता हो, और जैसे-जैसे ये विचार उनके मन में बैठते, उनकी आँखों में चमक आ जाती है, इस तरह, मानो उन्होंने कोई बड़ी खोज कर ली हो। 

उत्तर: प्रसंग: प्रस्तुत पंक्तियाँ हमारी पाठ्य पुस्तक ‘आरोह’ के भारत माता पाठ से ली गई है। इसके लेखक हैं, भारत के प्रथम प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरु ।

संदर्भ : : प्रस्तुत पंक्तियों में लेखक ने किसानों को भारत माता का एक अंश माना है।

व्याख्या : नेहरु जी किसानों से कहते हैं, कि भारत माता का अर्थ केवल धरती से ही नहीं, बल्कि यहाँ रहने वाले लोगों से भी हैं। भारत माता का वास्तविक अर्थ यहाँ रहने वाले करोड़ों लोगों से हैं। नेहरु जी यह भी बताते हैं, ये किसान भी इस भारत-माता के अंश हैं। अतः ये किसान भी भारत-माता हैं। और नेहरु जी के विचार सुनते ही उनके आँखों में एक प्रकार की चमक आ जाती है। उन्हें देखकर नेहरु जी को लगता है कि जैसे कोई बड़ी खोज कर ली हो।

This Post Has 5 Comments

Leave a Reply