Class 11 Hindi (MIL) प्रथम भाग | आरोह (गद्य खंड) | विषय – 8. जामुन का पेड़

Class 11 Hindi (MIL) प्रथम भाग | आरोह (गद्य खंड) | विषय – 8. जामुन का पेड़ HS प्रथम वर्ष के लिए महत्वपूर्ण प्रश्न हिंदी प्रश्न उत्तर आपके लिए नवीनतम NCERT/AHSEC संकेतकों के अनुसार नवीनतम प्रश्न और समाधान लाता है। छात्र इन आवश्यक अध्याय प्रश्नों को सक्रिय करके प्रत्येक अध्याय के संबंध में अपने सभी संदेहों को दूर करेंगे और हमारे विशेषज्ञों द्वारा प्रदान की गई विस्तृत व्याख्याओं को विस्तृत करेंगे ताकि आपको उच्च सहायता मिल सके। ये प्रश्न छात्रों को समय की कमी के कारण परीक्षा के लिए अच्छी तैयारी करने में मदद कर सकते हैं। Class 11 Hindi (MIL) प्रथम भाग | आरोह (गद्य खंड) | विषय – 8. जामुन का पेड़

HS First Year Hindi (MIL) प्रथम भाग :: आरोह (गद्य खंड) विषय – 8. जामुन का पेड़

प्रथम भाग :: आरोह (गद्य खंड)

जामुन का पेड़ का सारांश :

रात आँधी के कारण सेक्रेटेरियेट के लॉन में जो जामुन का पेड़ था वह गिर गया। सबेरें माली ने देखा कि उसके नीचे एक व्यक्ति दबा पड़ा हैं। माली चपरासी को, चपरासी क्लर्क को, सुपरिटेडेंट को बताता है। इस तरह आदमी के चारों ओर भीड़ इकट्ठी हो जाती है। हर व्यक्ति तरह-तरह की बात करता है, कोई जामुन के रसीले होने की, कोई जामुन के पेड़ के गिरने पर दुःख व्यक्त करता है। कोई कहता है, शायद आदमी मर गया होगा। मगर आदमी को बाहर निकालने का प्रयत्न कोई नहीं करता है। उस समय तक दबा आदमी जीवित था, वह अपने जिंदा होने की बात बनाता हैं। वहाँ उपसितथ पद्रह बीस माली, चपरासी, क्लर्क पेड़ हटाकर आदमी को निकालने की बात करते हैं, परन्तु सुपरिटेंडेंट ऐसा करने से रोकते हैं। इस तरह फाइल अंडर सेक्रेटरी से होते हुए डिप्टी सेक्रेटरी तक पहुँचती हैं। उसके बाद इस मामले को कृषि विभाग को सौंपा जाता हैं। कृषि विभाग व्यापार विभाग को जिम्मेदारी सौपती हैं। उसके बाद इस मामले को हार्टीकल्चर को सौंपा दिया जाता हैं। तीसरे दिन हॉर्टी कल्चर डिपार्टमेंट से जबाव आया कि वे पेड़ काटने की इजाजत नहीं दे सकते। इस पर किसी ने यह सुझाव दिया कि क्यों न आदमी को ही दो हिस्सों में काट कर बाहर निकाला जाए। उस पर दबा व्यक्ति असहमति व्यक्त करता हैं। इस बार फ़ाइल को मेडिकल डिपार्टमेंट में भेज दिया जाता है। अगले दिन ही मेडिकल डिपार्टमेंट के योग्य प्लास्टिक सर्जन छान बीन के लिए आते हैं। वह बताता हैं, कि प्लास्टिक ऑपरेशन तो सफल होगा परन्तु आदमी मर जायेगा। माली के सामने दबा हुआ व्यक्ति एक शेर सुनाता हैं, जिससे अगले दिन व्यक्ति के शायर होने की बात फैल जाती है।

साथ फ़ाइल को कल्चर डिपार्टमेंट भेज दी जाती हैं। अनेक विभागों से गुजरती हुई फ़ाइल साहित्य अकादमी के सेक्रेटरी के पास पहुँचती हैं। बहुत सवाल पूछने के पश्चात् उसे सरकारी साहित्य द्वारा केन्द्रीय शाखा का मेम्बर बनाया जाता है। परन्तु जब वह व्यक्ति अपने बाहर निकालने की बात कहता है। तो सेक्रेटरी अपनी असमर्थता बताते हुए कहता हैं कि यह फॉरेस्ट डिपार्टमेंट का काम है और यह मामला फ़ारेस्ट डिपार्टमेंट को सौंप दी जाती है। दूसरे दिन जब पेड़ काटने आते हैं, तो फिरा सवाल खड़ा होता हैं, क्योंकि इस पेड़ को पीटोनिया के प्रधानमंत्री ने लगाया था, और 

अगर इसे काटा गया तो दो देशों के संबंध खराब हो जाएँगे। अतः पेड़ नही काय जायेगा। उसके बाद यह मामला प्रधानमंत्री तक पहुँचती है, और प्रधानमंत्री को पेड़ काटने की अनुमति देते हैं। खुश होकर स्वयं सुपरिटेडेंट कवि की फ़ाइल लेकर उसे बताने आता हैं, पेड़ काटने का हुक्म दे दिया गया हैं, परन्तु तब तक कवि का हाथ ठंडा तथा आँखों की पुतलियाँ निर्जीव हो चुकी है। उसके फाइल के पूर्ण होने के साथ ही उसके जीवन की फ़ाइल भी पूर्ण हो चुकी थी।

प्रश्नोत्तर

1.बेचारा जामुन का पेड़। कितना फलदार था। और इसकी जामुनें कितनी रसीली होती था।

(क) ये संवाद कहानी के किस प्रसंग में आए हैं ? 

उत्तर: आँधी के कारण जामुन का पेड़ गिर जाता है, जिसके नीचे एक व्यक्ति दब जाता हैं। और यह सुनकर लोगों की भीड़ लग जाती हैं। कोई जामुन के पेड़ की बात कर रहा है, तो जामुन के रसीली फल की बात कर रहा है। परन्तु दबे हुए व्यक्ति को निकालने की बात कोई नहीं कर रहा है।

(ख) इससे लोगों की कैसी मानसिकता का पता चलता हैं ? (2015) 

उत्तर: इससे लोगों के संवेदन शून्य तथा अमानवीय होने की मानसिकता का पता चलता है।

2. दबा हुआ आदमी एक कवि हैं, यह बात कैसे पता चली और इस जानकारी का फ़ाइल की यात्रा पर क्या असर पड़ा ?

 उत्तर : एक रात माली जब आदमी को खिचड़ी खिलाते हुए सब ठीक होने की सम्भावना व्यक्त कर रहा था, तब आदमी एक शेर सुना देता हैं। दूसरे दिन यह बात फैल जाती है। और आदमी के कवि होने के कारण फ़ाइल कल्चरल डिपार्टमेंट पहुँचा दी जाती हैं। उसके कल्चरल डिपार्टमेंट के अनेक विभागों से गुज़रती हुई साहित्य अकादमी के सेक्रेटरी के पास पहुँचती हैं।

आरोहो : गद्य खंड

Sl. No.LessonsLinks
1.नमक का दारोगा Click Here
2.मियाँ नसीरुद्दीन Click Here
3.अपू के साथ ढाई साल Click Here
4.विदाई-संभाषण Click Here
5.गलता लोहा Click Here
6.स्पीति में बारिस Click Here
7.रजनी Click Here
8.जामुन का पेड़ Click Here
9.भारत माता Click Here
10.आत्मा का ताप Click Here

आरोहो : काव्य खंड

Sl. No.LessonsLinks
1.हम तौ एक एक करि जाना।
संतो देखत जग बौराना।
Click Here
2.(क) मेरे तो गिरधर गोपाल, दूसरो न कोई
(ख) पग घुंघरू बांधि मीरा नाची,
Click Here
3.पथिक Click Here
4.वे आँखें Click Here
5.घर की याद Click Here
6.चंपा काले काले अच्छर नहीं चीन्हती Click Here
7.गजल Click Here
8.1. हे भूख मत मचल
2. हे मेरे जूही के फूल जैसे ईश्वर
Click Here
9.सबसे खतरनाक Click Here
10.आओ मिलकर बचाएँ Click Here

वितान

1.भारतीय गायिकाओं में बेजोड़ – लता मंगेशकर Click Here
2.राजस्थान की रजत बूंदें Click Here
3.आलो-आंधारि  Click Here

3. कृषि विभाग वालों ने मामले को हार्टीकल्चरविभाग को सौंपने के पीछे क्या तर्क दिया ?

उत्तर: कृषि विभाग वालों ने मामले को हार्टीकल्चर विभाग को सौंपते हुए कहा कि कृषि विभाग अनाज और खेती-बाड़ी के मामलों में फैसला करने का हकदार हैं। जामुन का पेड़ चूँकि एक फलदार पेड़ हैं, इसलिए हार्टीकल्चर डिपार्टमेंट के अंतर्गत आता हैं।

4. इस पाठ में सरकार के किन-किन विभागों की चर्चा की गई हैं, और पाठ से उनके कार्य के बारे में क्या अंदाज़ा मिलता हैं ?

उत्तर : (क) व्यापार विभाग: इसके अंतर्गत व्यापार वाणिज्य के कामों को निपटाया जाता है।

(ख) कृषि विभाग: अनाज तथा खेती बाड़ी के मामलों को निपटाते हैं। 

(ग) हार्टीकल्चर विभाग: इसके अंतर्गत पेड़ लगाने तथा पेड़ों की देखरेख पर ध्यान दिया जाते हैं।

(घ) मेडिकल डिपार्टमेंट: इसके अंतर्गत मनुष्य के स्वास्थ संबंधी समस्याओं को.सुलाझाया जाता है।

(ङ) कल्चर विभाग: कल्चर यानी कला विभाग इसमें साहित्य संबंधी बातों को देखा जाता हैं।

(च) फ़ारेस्ट डिपार्टमेंट: इसमें वन संरक्षण संबंधी बातों की देखरेख की जाती है।

लघु प्रश्नोंत्तर

1. ‘जामुन का पेड़’ किस प्रकार की कथा है? 

उत्तर : यह एक हास्य-व्यंग्य कथा है।

2.’जामुन का पेड़’ के लेखक कौन हैं ?

 उत्तर : इसके लेखकहैं कृष्णचंदर ।

3.’जामुन का पेड़’ कहानीका उद्देश्य क्या है?

उत्तर : प्रस्तुत कहानी में लेखक ने मनुष्य के संवेदनशून्य एवं अमानवीय मानसिकता को दिखाया है।

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply